HBSE Class 12th Accountancy Sample Paper 2024 Answer

Haryana Board Class 12th Accountancy Sample Paper 2024 with Answer. Haryana Board 12th Accountancy Model Paper with Answer. HBSE 12th Accountancy Model Paper 2023 Solution. HBSE 12th Accountancy ka Model Paper 2024. BSEH Class 12th Accountancy Model Paper 2024. Accountancy Sample Paper 12th Class HBSE Board. HBSE Class 12 Accountancy Sample Paper 2024 Pdf Download. HBSE Class 12th Ka Accountancy Model Paper Download Kare. HBSE Class 12 Accountancy Model Paper 2024 Pdf Download.

HBSE Class 12th Accountancy Sample / Model Paper 2024 Answer

Class – 12th             Subject – Accountancy
Time : 3 Hours          Maximum Marks : 60

सामान्य निर्देश –
1. इस प्रश्न पत्र में दो भाग हैं – अ और ब। प्रश्न पत्र में 30 प्रश्न हैं। सभी प्रश्न अनिवार्य हैं।
2. भाग-अ सभी उम्मीदवारों के लिए अनिवार्य है।
3. भाग-ब में दो विकल्प हैं अर्थात् (1) वित्तीय विवरणों का विश्लेषण और (2) कम्प्यूटरीकृत लेखांकन। आपको दिए गए विकल्पों में से केवल एक को हल करना है।
4. प्रश्न संख्या 1 से 10 और 23 से 27 वैकल्पिक प्रश्न हैं, प्रत्येक के लिए 1 अंक निर्धारित है।
5. प्रश्न संख्या 11 से 15 और 28 अति लघु उत्तरीय प्रश्न है, प्रत्येक के लिए 2 अंक निर्धारित हैं।
6. प्रश्न संख्या 16 से 20 और 29 लघु उत्तरीय प्रश्न है, प्रत्येक के लिए 3 अंक निर्धारित है।
7. प्रश्न संख्या 21, 22 और 30 दीर्घ उत्तरीय प्रश्न है, प्रत्येक के लिए 5 अंक निर्धारित हैं।
8. समग्र रूप से कोई विकल्प नहीं है। हालांकि, दो अंकों के 2 प्रश्नों में, तीन अंकों के 2 प्रश्नों में और पाँच अंकों के सभी प्रश्नों में एक आंतरिक विकल्प प्रदान किया गया है।

भाग – अ
(साझेदारी फर्मों और कंपनियों के लिए लेखांकन)

1. मौजूदा साझेदारों के संबंध में कोई परिवर्तन जिसके परिणामस्वरूप मौजूदा समझौता समाप्त हो जाता है और एक नया समझौता करने के लिए बाध्य करता है, कहलाता है :
(a) साझेदारी का पुनर्मूल्यांकन
(b) साझेदारी की प्राप्ति
(c) साझेदारी का पुनर्गठन
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर – (c) साझेदारी का पुनर्गठन

2. एक साझेदार की सेवानिवृत्ति पर संचित लाभ और हानि के लिए क्या उपचार किया जाता है ?
(a) सभी साझेदारों के पूँजी खाते में पुराने अनुपात में क्रेडिट किया गया
(b) सभी साझेदारों के पूँजी खाते को पुराने अनुपात में डेबिट किया गया
(c) शेष साझेदारों के पूँजी खातों में नए अनुपात में जमा किया गया
(d) शेष साझेदारों के पूँजी खाते में अभिलाभ अनुपात में जमा किया गया
उत्तर – (a) सभी साझेदारों के पूँजी खाते में पुराने अनुपात में क्रेडिट किया गया

3. आरक्षित पूँजी है :
(a) प्रदत्त पूँजी का भाग
(b) जब्त अंश पूँजी का भाग
(c) कम्पनी के समापन पर माँगी जाने वाली पूँजी का भाग
(d) सम्पति का भाग
उत्तर – (c) कम्पनी के समापन पर माँगी जाने वाली पूँजी का भाग

4. फर्म के साथ साझेदार का संबंध …………… का है।
उत्तर – एजेंट

5. साझेदारी फर्म के विघटन के समय, फर्म द्वारा साझेदार को दिए गए ऋण के लिए रोजनामचा प्रविष्टि होगी :
(a) Bank A/c To Loan to Partner A/c   (Dr.)
(b) Loan to partner A/c To Bank A/c   (Dr.)
(c) Realization A/c To Loan to Partner A/c   (Dr.)
(d) None of these
उत्तर – (a) Bank A/c To Loan to Partner A/c   (Dr.)

6. एक परिस्थिति लिखिए जिसमें त्याग अनुपात लागू किया जा सकता है।
उत्तर – विद्यमान साझेदारों के लाभ-विभाजन अनुपात में परिवर्तन के समय।

7. अभिकथन (A) : एक साझेदार से लिया गया ऋण वसूली खाते में स्थानांतरित नहीं किया जाता है।
कारण (R) : एक साझेदार से लिया गया ऋण बाह्य दायित्व नहीं है बल्कि पूँजी की वापसी से पहले चुकाया जाता है।
(a) अभिकथन (A) और कारण (R) सही हैं लेकिन कारण (R) अभिकथन (A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(b) अभिकथन (A) और कारण (R) दोनों सही हैं और कारण (R) अभिकथन (A) की सही व्याख्या है।
(c) केवल अभिकथन (A) सही है।
(d) अभिकथन (A) और कारण (R) दोनों सही नहीं हैं।
उत्तर – (b) अभिकथन (A) और कारण (R) दोनों सही हैं और कारण (R) अभिकथन (A) की सही व्याख्या है।

8. अभिकथन (A) : बैंक में शेष राशि वसूली खाते में स्थानांतरित की जाती है।
कारण (R) : बैंक में शेष राशि की वसूली नही होनी चाहिए, बल्कि वर्तमान रूप में वितरित किया जाना चाहिए।
(a) अभिकथन (A) और कारण (R) सही हैं लेकिन कारण (R) अभिकथन (A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(b) अभिकथन (A) और कारण (R) दोनों सही हैं और कारण (R) अभिकथन (A) की सही व्याख्या है।
(c) केवल अभिकथन (A) सही है।
(d) अभिकथन (A) सही नहीं है लेकिन कारण (R) सही है।
उत्तर – (d) अभिकथन (A) सही नहीं है लेकिन कारण (R) सही है।

9. पूँजी के उस भाग को क्या नाम दिया गया है, जो केवल कंपनी के समापन पर ही माँगा जाता है ?
उत्तर – आरक्षित पूँजी

10. ऋणपत्रों के मोचन पर प्रीमियम ………… खाता है।
उत्तर – व्यक्तिगत

11. शेयरधारी और ऋणपत्रधारी के बीच दो अंतर लिखिए।
उत्तर – (i) शेयरधारी कंपनी के स्वामी होते है जबकि ऋणपत्रधारी कंपनी के ऋणदाता होते है।
(ii) शेयरधारी को कंपनी से लाभांश मिलता है, जबकि ऋणपत्रधारी को कंपनी से ब्याज मिलता है।

12. W और S बराबर के साझेदार है। उनकी पूँजी क्रमशः 40,000 रुपये और 80,000 रुपये है। वर्ष के लिए खाते तैयार करने के बाद यह पता चलता है, कि साझेदारी समझौते में प्रदान किए गए 10% प्रतिवर्ष की दर से ब्याज की राशि, लाभ के वितरण से पहले साझेदारों की पूँजी खाते में जमा नहीं की गई। अगले वर्ष की शुरुआत में समायोजन प्रविष्टि करने का निर्णय लिया गया। आवश्यक जर्नल प्रविष्टियां करे।
उत्तर – पूँजी पर ब्याज 10%
W = 40000 × 10/100 = ₹4000
S = 80000 × 10/100 = ₹8000
पूँजी पर कुल ब्याज = ₹4000 + ₹8000 = ₹12000

अथवा

साझेदारी की कोई दो विशेषताएं बताइये।
उत्तर – (i) दो या दो से अधिक व्यक्ति
(ii) साझेदारों के बीच ठहराव
(iii) लाभों का बंटवारा
(iv) व्यवसाय की उपस्तिथि एवं लाभ कमाने का उद्देश्य
(v) स्वामी और एजेंट का संबंध

13. एक फर्म का औसत लाभ ₹70,000 है। इसमें 5,000 रुपये का एक असामान्य लाभ शामिल हैं। व्यवसाय विनियोजित पूंजी 5,50,000 रुपये है तथा लाभ की सामान्य दर 10% है। अधिलाभ के 4 गुना के बराबर ख्याति की गणना कीजिए।
उत्तर – (i) वास्तविक औसत लाभ की गणना :
औसत मुनाफ़ा = ₹70,000
कम: असामान्य लाभ = ₹5,000
वास्तविक औसत लाभ = 70,000 – 5,000 = ₹65,000
(ii) सामान्य लाभ = निवेशित पूंजी × रिटर्न की सामान्य दर/100 = 5,50,000 × 10/100 = ₹55,000
(iii) अत्यधिक लाभ = वास्तविक औसत लाभ – सामान्य लाभ = 65,000 – 55,000 = ₹10,000
(iv) ख्याति (सद्भावना) = अत्यधिक लाभ × खरीदे गए वर्षों की संख्या = 10,000 × 4 = ₹40,000

अथवा

ख्याति के किन्ही चार तत्वों का वर्णन कीजिए।
उत्तर – (i) व्यवसाय की प्रकृति
(ii) स्थान
(iii) प्रबंधन की दक्षता
(iv) बाज़ार परिस्थितियाँ
(v) विशेष लाभ

14. A और B लाभों को 3 : 2 के अनुपात में बांटते हुए साझेदार हैं। वे C को नए साझेदार के रूप में प्रवेश देते हैं तथा नया लाभ हानि अनुपात 2 : 1 : 1 होगा। C अपने हिस्से की ख्याति के लिए 1,00,000 रुपये लाता है। उपर्युक्त लेनदेन के लिए फर्म के खातों में आवश्यक जर्नल प्रविष्टियां कीजिए।
उत्तर –

15. त्याग अनुपात और लाभ-प्राप्ति अनुपात के बीच दो अंतर बताइए।
उत्तर –

त्याग अनुपात लाभ-प्राप्ति अनुपात
1. यह वो अनुपात है जिसमे पुराने साझेदार द्वारा नए साझेदार के पक्ष में अपने हिस्से का त्याग किया जाता है। 1. यह वह अनुपात है जिसमे शेष साझेदारों द्वारा अवकाश ग्रहण करने वाले या मृतक साझेदार के हिस्से को प्राप्त किया जाता है।
2. त्याग अनुपात नए साझेदार के फर्म में प्रवेश के समय निकाला जाता है। 2. लाभ-प्राप्ति अनुपात किसी साझेदार के फर्म से अवकाश ग्रहण अथवा मृत्यु के समय निकाला जाता है।
3. नए साझेदार के हिस्से की ख्याति की राशि को त्याग अनुपात में पुराने साझेदारों में बाँटा जाता है। 3. अवकाश ग्रहण करने वाले साझेदार को दी गई ख्याति की राशि शेष साझेदारों द्वारा लाभ प्राप्ति अनुपात में दी जाती है।

 

16. निम्न सूचना के आधार पर जर्नल प्रविष्टियां पूर्ण कीजिये।

उत्तर –

17. निम्नलिखित मामलों में एक साझेदारी फर्म के विघटन पर आवश्यक रोजनामचा प्रविष्टियाँ कीजिए।
(i) 5,000 रुपये की वसूली व्यय एक साझेदार X द्वारा वहन किया जाना था। हालाँकि, इसका भुगतान Y द्वारा किया गया था।
(ii) Y का 50,000 रुपये का ऋण 48,000 रुपये पर तय हुआ।
(iii) मशीनरी (पुस्तक मूल्य 6,00,000 रुपये) 20% बट्टे पर दी गई।
उत्तर –

18. निम्नलिखित स्थितियों में ऋणपत्रों के निर्गमन के लिए रोजनामचा प्रविष्टियाँ दीजिए :
(i) 100 रुपये के 2,000 12% ऋणपत्र जारी किए गए, जो सममूल्य पर प्रतिदेय हैं।
(ii) 2,000 12% ऋणपत्र 2% की छूट पर जारी किए गए, सममूल्य पर प्रतिदेय है।
(iii) 5% के प्रीमियम पर 100 रुपये के 2,000 12% ऋणपत्र जारी किए गए, सममूल्य पर प्रतिदेय है।
उत्तर –

19. X, 1 जनवरी 2002 को 5,000 रुपये के साथ एक व्यवसाय शुरू करता है। Y, 1 मई 2002 को 10,000 रुपये के साथ शामिल होता है। 1 जुलाई को Z, 15,000 रुपये के साथ एक साझीदार के रूप में शामिल होता है और उसी तारीख को X, 5000 रुपये और Y, 10000 रुपये अतिरिक्त पूंजी के रूप में योगदान देते है। 31 दिसंबर 2002 को समाप्त वर्ष के लिए लाभ 16,000 रुपये था। साझेदार अपनी पूंजी के अनुपात साझा करने के लिए सहमत हैं। आपको लेखा वर्ष के अंत में लाभ का वितरण दिखाने के लिए कहा जाता है।
उत्तर –

अथवा

यदि साझेदार का पूँजी खाता स्थिर है तो आप निम्नलिखित मद को कहाँ दर्ज करेंगे :
(i) साझेदार द्वारा आहरण
उत्तर – Debit of Current A/c
(ii) साझेदार को देय वेतन
उत्तर – Credit of Current A/c
(iii) लाभ का हिस्सा
उत्तर – Credit of Current A/c
(iv) एक साझेदार द्वारा लगाई गई नई पूंजी
उत्तर – Credit of Current A/c
(v) आहरण पर ब्याज
उत्तर – Debit of Current A/c
(vi) पूंजी पर ब्याज
उत्तर – Credit of Current A/c

20. A, B, C और D लाभ को 1 : 2 : 3 : 4 के अनुपात में साझा करने वाले साझेदार है। D सेवानिवृत्त हो गया है और उसका हिस्सा A और B द्वारा बराबर बांटा गया है। ख्याति का मूल्यांकन पिछले 4 वर्षों के औसत लाभ की 3 साल की खरीद पर किया गया था, जोकि 4000 रुपए था। सामान्य रिजर्व में 130000 रुपए का शेष दिखाया गया था और स्थिति विवरण में D की पूंजी सेवानिवृत्ति के समय 300000 रुपए थी फर्म की पुस्तकों में आवश्यक जर्नल प्रविष्टियां कीजिए।
उत्तर –

21. सुनैना और तमन्ना एक फर्म में साझेदार हैं और 3 : 2 के अनुपात में लाभ-हानि बाँटते हैं। 5 मार्च, 2020 को उनकी बैलेंस शीट इस प्रकार थी :

वे 1 अप्रैल, 2020 को प्रणव को मुनाफे के 1/5वें हिस्से के लिए निम्नलिखित शर्तों पर साझेदारी में शामिल करने के लिए सहमत हुए :
(i) सभी देनदार अच्छे हैं।
(ii) भूमि और भवन का मूल्य ₹1,80,000 तक बढ़ाया जाना है।
(iii) संयंत्र और मशीनरी का मूल्य ₹20,000 कम किया जाना है।
(iv) कामगार मुआवजा निधि के खिलाफ देयता ₹20,000 पर निर्धारित की जाती है जिसे बाद में वर्ष में भुगतान किया जाना है।
(v) प्रणव ₹1,00,000 की पूँजी और ₹10,000 प्रीमियम के रूप में ख्याति के लिए नकद में लाएगा।
पुनर्मूल्यांकन खाता पूँजी खाते तथा पुनर्गठित फर्म का स्थिति विवरण तैयार कीजिए ।
उत्तर –

अथवा

व्यवसाय में नए साझेदार की आवश्यकता के क्या कारण हैं? जब नया साझेदार अपने हिस्से की ख्याति को नकद में लाता है तो ख्याति के लेखांकन उपचार की व्याख्या कीजिए।
उत्तर – साझेदारी अधिनियम, 1932 के अनुसार, एक नए साझेदार को सभी मौजूदा साझेदारों की सहमति से फर्म में प्रवेश दिया जा सकता है, जब तक कि अन्यथा सहमति न हो।
निम्नलिखित शर्तों के कारण एक नए साथी को जोड़ा गया :
(i) जब फर्म के विस्तार के लिए अधिक पूंजी की आवश्यकता है।
(ii) जब नए साझेदारों के पास विशेषज्ञता हो जो फर्म के व्यवसाय विस्तार के लिए फायदेमंद हो।
(iii) जब विचाराधीन साझीदार प्रभावशाली व विख्यात व्यक्ति हो और फर्म में उसके प्रवेश से फर्म की ख्याति और प्रतिष्ठा में वृद्धि हो।

22. ज़ोकोन लिमिटेड ने एक प्रविवरण पत्र जारी किया जिसमें प्रत्येक 10 रुपये के 5,00,000 समता शेयरों के लिए 10% के प्रीमियम पर जारी किए गए आवेदन आमंत्रित किए गए :
3 आवेदन पर
आवंटन पर ₹5 (प्रीमियम सहित) और ₹3 कॉल पर।
6,60,000 अंशों के लिए आवेदन प्राप्त हुए।
आवंटन इस प्रकार किया गया था :
(i) 4,00,000 शेयरों के आवेदकों को पूर्ण रूप से आवंटित किया गया था ।
(ii) 2,00,000 शेयरों के आवेदकों को आनुपातिक आधार पर 50% आवंटित किया गया था।
(iii) 60,000 शेयरों के आवेदकों को खेद के पत्र जारी किए गए थे। एक शेयरधारक जिसे श्रेणी (अ) के तहत 500 शेयर आवंटित किए गए थे, उसने आवंटन राशि के साथ आवंटित शेयरों पर पूरी राशि का भुगतान किया। एक अन्य शेयरधारक, जिसे 1,000 शेयर श्रेणी (ब) के तहत आवंटित किए गए थे, आवंटन पर देय राशि का भुगतान करने में विफल रहा। उनके शेयरों को तुरंत जब्त कर लिया गया। इन शेयरों को तब ₹14 प्रति शेयर पर ₹7 के भुगतान के रूप में फिर से जारी किया गया था। कॉल अभी तक नहीं माँगी गई है। जर्नल प्रविष्ठियां करे।
उत्तर –

अथवा

निम्न पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखे :
(i) अग्रिम याचना (calls in advance)
उत्तर – अग्रिम याचना (पूर्वदत्त याचना) किसी भी कंपनी द्वारा अग्रिम में प्राप्त की गई अत्यधिक राशि है, जिस पर मांग की गई है। यदि किसी कंपनी को उसके अन्तर्नियमो द्वारा अनुमत और अधिकृत किया जाता है, तो वह शेयरधारकों से राशि स्वीकार कर सकती है। अग्रिम राशि को अग्रिम याचना के लिए विशेष रूप से खोले गए खाते में स्थानांतरित किया जा सकता है, जिसे अग्रिम याचना खाते के रूप में जाना जाता है। कंपनी द्वारा कॉल नहीं की जाने वाली राशि को पूंजी खाते में जमा नहीं किया जाना चाहिए। यह कंपनी के स्तिथि विवरण में इसकी देनदारियों के रूप में अलग से दिखाई देता है। शेयरों को पूरी तरह से भुगतान करने के लिए, कंपनियां ऐसी राशियों का प्रयोग कर सकती हैं। एक बार जब राशि खाते में स्थानांतरित हो जाती है, तो इसे पूर्वदत्त याचना बंद होने के रूप में जाना जा सकता है। यह याचना किए जाने तक वर्तमान देनदारियों के नाम से आता है, और राशि शेयरधारकों द्वारा देय हो जाती है।

(ii) बकाया याचना (calls in arrears)
उत्तर – बकाया याचना (अदत्त याचना) याचना वह राशि है जिसे शेयर के संबंध में मांगा जाता है और इसका भुगतान देय तिथि से पहले नहीं किया जाता है। याचित पूँजी को आबंटन पूँजी भी कहा जा सकता है और कंपनी इसकी मांग कर सकती है। यदि मांग राशि भेजने में कोई विफलता या चूक उत्पन्न होती है, तो इसे अदत्त याचन कहा जा सकता है। अदत्त याचन के लिए एक अलग खाता खोला जाना चाहिए और उसका रखरखाव किया जाना चाहिए। अदत्त याचना के लिए खोले गए खाते को तुलन पत्र के शेयर पूंजी में परिलक्षित किया जा सकता है। इस राशि को स्तिथि विवरण के समता एवं दायित्व पक्ष में सदैव प्रार्थित परन्तु पूर्णतः चुकता पूँजी नहीं में से घटाकर दिखाई जाती है। इस राशि को प्रदत पूंजी के रूप में जाना जाता है, और 10% प्रतिवर्ष के हिसाब से ब्याज का प्रभार अदत्त याचना में शामिल होता है। हालांकि, यह कंपनी के लेखों के प्रावधान पर ही निर्भर करता है। कंपनी के निदेशकों को बकाया कॉल पर ब्याज दर में कटौती या छूट देने का अधिकार रखते है।

भाग – ब
(वित्तीय विवरणों का विश्लेषण)

23. किन्हीं 2 मदों के नाम बताएं जिनको ‘अल्पकालिक प्रावधान’ के तहत दर्शाया जा सकता है।
उत्तर – (i) सन्दिग्ध ऋणों के लिए आयोजन
(ii) कर्मचारी कल्याण आयोजन
(iii) कराधान के लिए आयोजन

24. निम्नलिखित में से कौन-सा वित्त लागत का हिस्सा नहीं है (लाभ हानि विवरण में) ?
(a) बैंक शुल्क
(b) ऋणपत्र पर ब्याज का भुगतान
(c) सार्वजनिक जमा पर ब्याज भुगतान
(d) ऋणपत्र जारी करने पर नुकसान
उत्तर – (a) बैंक शुल्क

25. रोकड़ प्रवाह विवरण ………… वित्तीय योजना के लिए तैयार किया जाता है।
उत्तर – अल्पकाल

26. अभिकथन (A) : गतिविधि अनुपात वे अनुपात हैं जिनकी गणना संसाधनों के प्रभावी उपयोग के आधार पर व्यवसाय के संचालन की दक्षता को मापने के लिए की जाती है।
कारण (R) : वर्तमान अनुपात और त्वरित अनुपात तरलता अनुपात हैं।
(a) अभिकथन (A) और कारण (R) सही हैं लेकिन कारण (R) अभिकथन (A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।
(b) अभिकथन (A) और कारण (R) दोनों सही हैं और कारण (R) अभिकथन (A) का सही स्पष्टीकरण है।
(c) केवल अभिकथन (A) सही है।
(d) अभिकथन (A) और कारण (R) दोनों सही नहीं हैं।
उत्तर – (a) अभिकथन (A) और कारण (R) सही हैं लेकिन कारण (R) अभिकथन (A) का सही स्पष्टीकरण नहीं है।

27. …………. संकेत दे सकता है कि फर्म स्टॉक अनुपलब्धता और खोई हुई बिक्री का अनुभव कर रही है।
(a) औसत भुगतान अवधि
(b) स्टॉक आवर्त अनुपात
(c) औसत संग्रह अवधि
(d) तरल अनुपात
उत्तर – (b) स्टॉक आवर्त अनुपात

28. एक कंपनी के तुलन-पत्र में निम्नलिखित मदों को आप किन शीर्षकों के अंतर्गत दिखायेंगे ?
(a) बैंकों के पास शेष राशि
उत्तर – वर्तमान संपत्ति (current assets)
(b) ऋणपत्र में निवेश
उत्तर – वर्तमान देनदारियां (current liabilities)
(c) बकाया वेतन
उत्तर – गैर मौजूदा देनदारियां (noncurrent liabilities)
(d) अधिकृत पूंजी
उत्तर – अंशधारी निधि (shareholder’s funds)

29. स्वामित्व अनुपात की गणना करें, यदि कुल संपत्ति का ऋण अनुपात 2 : 1 है। ऋण 5,00,000 रुपये है। समता अंश, पूंजी ऋण का 0.5 गुना है। पूर्वाधिकार अंश पूंजी इक्विटी का 25% है। कर पूर्व शुद्ध लाभ 10,00,000 रुपये है और कर की दर 40% है।
उत्तर : Total Assets = Debts × 2 = Rs.5,00,000 × 2 = Rs.10,00,000
Proprietor’s Funds = (Equity Share Capital) + (Preference Share Capital) + (Surplus)
= (5,00,000 × 0.5) + (5,00,000 × 0.5 × 25%) + (10,00,000 – 40% of 10,00,000)
= 2,50,000 + 62,500 + 6,00,000
= Rs.9,12,500
Proprietary Ratio = Proprietor’s funds ÷ Total assets
Proprietary Ratio = 9,12,500 : 10,00,000 = 0.9125 : 1

अथवा

अनुपात क्या है? अनुपात विश्लेषण की कोई दो उपयोगिता बताए।
उत्तर – दो संख्याओं के पारस्परिक संबंध को गणितीय रूप से प्रकट करना अनुपात कहलाता है। अनुपात साधारणतया एक संख्या को दूसरी संख्या के संदर्भ में प्रकट करना है। इसे अंश (fraction), दर (rate) अथवा प्रतिशत (percentage) के रूप में दर्शाया जा सकता है।
अनुपात विश्लेषण की उपयोगिताएँ :
(i) फर्म की वित्तीय स्थिति को समझने में आसानी
(ii) वित्तीय प्रदर्शन और स्थिति को व्यक्त करने का उपाय
(iii) कई वर्षों की वित्तीय जानकारी पर अंतर-फर्म विश्लेषण
(iv) वित्तीय योजना और नियंत्रण की संभावना ।

30. निम्न विवरण से, रोकड़ प्रवाह विवरण की निवेश गतिविधि बनाए।

10,000 रुपये के निवेश के रूप में रखे गए ऋणपत्र पर प्राप्त ब्याज। शेयरों पर प्राप्त लाभांश ₹5,000, अधिशेष निधि में से निवेश के उद्देश्य से भूमि का एक भूखण्ड क्रम किया गया तथा व्यवसायिक उद्देश्य हेतु किराये पर दिया गया तथा 20,000 रुपये का किराया प्राप्त हुआ।
उत्तर –

अथवा

रोकड़ प्रवाह विवरण क्या है? रोकड़ प्रवाह विवरण तैयार करने के कोई चार उद्देश्य बताइए।
उत्तर – रोकड़ प्रवाह विवरण एक महत्वपूर्ण उपकरण है जिसका उपयोग किसी संगठन के लिए रोकड़ प्रवाह को देखकर वित्त का प्रबंधन करने के लिए किया जाता है। यह विवरण तीन प्रमुख रिपोर्टों (आय, विवरण और तुलन पत्र के साथ) में से एक है जो कंपनी के प्रदर्शन को निर्धारित करने में मदद करता है। यह आमतौर पर अल्पावधि नियोजन को सक्षम करने के लिए नकद पूर्वानुमान बनाने में सहायक होता है। रोकड़ प्रवाह विवरण नकदी के स्रोत को दिखाता है और प्राप्त और भुगतान रोकड़ पर नजर रखने में आपकी मदद करता है। किसी व्यवसाय के लिए आने वाली नकदी परिचालन गतिविधियों, निवेश गतिविधियों और वित्तीय गतिविधियों से आती है। विवरण, नकदी के बहिर्वाह, व्यावसायिक गतिविधियों के लिए भुगतान किए गए खर्चों और एक निश्चित समय पर निवेश के बारे में भी सूचित करता है। रोकड़ प्रवाह विवरण से आपको जो जानकारी मिलती है, वह व्यवसाय संचालन को विनियमित करने के लिए उचित निर्णय लेने के लिए प्रबंधन के लिए फायदेमंद होती है।
रोकड़ प्रवाह विवरण तैयार करने के विभिन्न उद्देश्य इस प्रकार हैं :
(i) रोकड़ प्रवाह विवरण का पहला और सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य यह है कि यह परिचालन, निवेश और वित्तीय गतिविधियों से नकदी और नकद समकक्षों के सकल अंतर्वाह और बहिर्वाह का पता लगाने में मदद करता है।
(ii) रोकड़ प्रवाह विवरण एक लेखा अवधि के दौरान कैश बैलेंस में बदलाव के विभिन्न कारणों को निर्धारित करने में मदद करता है।
(iii) संगठन की तरलता स्थिति निर्धारित करने के लिए एक नकदी प्रवाह विवरण भी तैयार किया जाता है।
(iv) इसके अलावा भविष्य में नकदी की आवश्यकता के बारे में जानने के लिए एक रोकड़ प्रवाह विवरण तैयार किया जाता है।

Part – B
(Computerised Accounting)

23. Name any two components of computerized accounting system.
Answer – Data, Report, Ledger, Hardware, Software

24. Computerised Accounting system takes …………. as inputs which are processed through …………. to generate reports.
Answer – Accounting transactions, Accounting software

25. The data is classified for creating groups of accounts in the heads of :
(a) Assets, Liabilities and Capital
(b) Assets, Owners’ equity, Revenue and Expenses
(c) Assets, Capital, Liabilities, Revenue and Expenses
(d) Capital, Revenue and Expenses
Answer – (c) Assets, Capital, Liabilities, Revenue and Expenses

26. A1 : E2 in Excel refers to :
(a) Column on Excel sheet
(b) Row on Excel sheet
(c) Column between start and end points of Excel sheet
(d) Alphabets between A to E on Excel sheet
Answer – (c) Column between start and end points of Excel sheet

27. Which of the following is not a limitation of Computerised Accounting system ?
(a) Data may be lost or corrupted due to power interruptions.
(b) Data is prone to hacking.
(c) Data is not made available to everybody.
(d) Unprogrammed and un-specified reports cannot be generated.
Answer – (c) Data is not made available to everybody.

28. Explain ‘Sequential’ and ‘Mnemonic’ codes.
Answer : Sequential codes – Sequential codes are those codes in which the numbers or letters are arranged in a consecutive order. These types of codes are mostly applied in source documents such as cheques, invoices. It also helps in document search by tracking a relevant document based on the code or by identifying the missing codes in a document based on the numbers.
• Mnemonic codes – Mnemonic codes are those codes that consist of alphabets or abbreviations as symbols for codifying a piece of information. e.g. HQ for headquarters, DLI for Delhi in train bookings.

29. What is meant by a graph? Explain any of its 2 advantages.
Answer – A graph is defined as a diagram or a pictorial representation that represents the interrelation between data or values in an organized manner.
The three advantages of graphs are as follows :
(i) It makes data presentable and easy to understand.
(ii) It helps in summarizing the data in a crisp manner.
(iii) It helps in the comparison of data in a better way.

OR

Explain any three types of vouchers used for entry in Tally software with the help of examples.
Answer – Types of vouchers :
(i) Contra voucher – Used for fund transfer between cash and Bank A/c only. This voucher is used if cash is withdrawn from Bank for office or deposited in the Bank from office.
(ii) Receipt Voucher – All the inflow of money is recorded through receipt voucher. Such receipts may be towards any income such as receipts from Debtors, loan/advance taken or refund of loan/advance etc.
(iii) Payment Voucher – All outflow of money is recorded through payment voucher such payments may be towards any purchases, Expenses, due to creditors, loan/advance etc.
(iv) Journal Voucher – It is an adjustment voucher, normally used for non-cash transactions like adjustment between ledgers.

30. Identify the error that appears when there are invalid numeric values in a formula or function. How can this error be rectified? Explain.
Answer – The error is #NUM! Error. The steps to correct it are :
1. Optionally, click the cell that displays the error, click the button that appears and then click show calculation steps.
2. Review the following causes and solutions : Using an unacceptable argument in the function that requires anumeric argument. Make sure that the arguments used in the function are numbers. Using a worksheet function that iterates, such as IRR or RATE, and the function cannot find the result. Use a different starting value for the worksheet function.
3. Then click the Microsoft button > Excel option and then click the formulas category.

OR

Give an example of payroll template using spreadsheet taking imaginary figures.
Answer –

Leave a Comment

error: